Sunday, April 15, 2018

मेरी कविता

डूबकर भावों मे मेरे
शब्द का अहसास है
ये मेरी कविता शिशिर में
धूप का अहसास है

जब कभी आशा का पंछी
गगन में उड़ने चला
और मन उद्विग्न हो
द्रुतवेग से चलने चला
रोककर उसकी गति को
राह बतलाने लगी
छोड़ कर छल दम्भ तृष्णा
सत्य बतलाने लगी
पतझरी उजड़े चमन में
प्यार का मधुमास है
ये मेरी.........

ताप दे संघर्ष लौ का
कनक-सा उज्ज्वल किया
इसने हर इक मोड़ पर
मुझको नया सम्बल दिया
टहनियों पर पात बन
फल फूल की जननी है तू
और रिश्तों की डगर पर
प्यार की भगिनी है तू
मेरे उर की कसमकश में
बाँधती विश्वास है
ये मेरी......

मन मुड़ेरीपन की पंछी
अप्सरा सुरलोक की
दामिनी सी दमक जाती
सहचरी आलोक की
जेठ में शीतल पवन है
सावनी बौछार है
इस प्रभंजित जिंदगी में
आत्मसुख का सार है
कल्पना के लोक की तू
क्षितिज है आकाश है.
ये मेरी......

नव शिशु की माँ की लोरी
ममतापूरित छाँव है
तू ही परियों की कहानी
और मेरा गाँव है
रात की तू चाँदनी है
प्रातः की पहली किरन
राज की हमराज है तू
प्रगति का पहला चरन
कवि के मन मन्दिर की तुलसी
औषधि का स्वांस है
ये मेरी.....

.    -यशोधरा यादव 'यशो'

No comments:

Post a Comment