Sunday, February 20, 2011

रंग बदलने लगे


ज़िन्दगी के समय रंग बदलने लगे
लोग गिरते हुए फिर सँभलने लगे ।

आगमन उनका था, हम तो अनजान थे
उनकी खुशबू से मधुवन महकने लगे ।

है ग़मेजिन्दगी का सफर इस तरह
लोग मंज़िल की खातिर तरसने लगे ।

ज़िन्दगी को जो दी तो वफा हमने दी
फिर ज़माने क्यों चेहरे बदलने लगे ।

हमने अपनो को हरदम सम्हाला ही था
टूट के फिर भी बंधन बिखरने लगे ।

ए "यशो" ज़िन्दगी कैसी छलना है तू
नाम रिश्तों के कैसे सिसकने लगे ।

-यशोधरा यादव

3 comments:

  1. Really good heart touching poem...

    ReplyDelete
  2. kaash, asmaan me bikhre hue taare, ek kram me aa jayen , aur ek hi shabd asmaan me likha ho............"Yashodhara'

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन गीत...बधाई. 'यदुकुल' पर आपका स्वागत है.

    ReplyDelete